Sushil Kumar's Blog

straight from my heart and soul

हे भगवान!

Oh My God

क्या हिन्दुओं के त्यौहार मनाना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक और प्राण के लिए घातक हो सकते हैं? क्या इन्हें जान हथेली पर रखकर मनाया जाता है? हर साल दर्जनों हिन्दू-श्रद्धालु होली के हुडदंग में, दीपावली की अमावस के अन्धकार को भगाने में मर-खपते हैं, ये मरते है दुर्गा-दुर्गति नाशिनी को नदी-समुद्र में डुबोने अर्थात विसर्जन में, ये सबरीमाला और महाशिवरात्रि की भगदड़ में भी मरते हैं, नवरात्रि में भी मरते हैं भगदड़ में, कुम्भ मेले में भी मरते हैं भगदड़ से और मंदिर के प्रसाद से भी मरते है विषाक्त भोजन से। आखिर इन भक्तजनों को अपना धर्म और त्यौहार अपने प्राणों से अधिक प्यारा क्यूँ होता है?

जोधपुर में कैमरे पर सुसाइड

राजस्थान के गंगापुर में कैमरे पर सुसाइड

राजस्थान के गंगापुर के एक परिवार के पाँच सदस्य होलिका दहन की रात इस मुगालते में ज़हर खा कर मर गये कि ईश्वर आ कर बचायेगा जरुर और उस परमात्मा की गतिविधियों को वीडियो कैमरे में रिकॉर्ड कर लिया जायेगा, और अगर मर भी गये तो मोक्ष की गारंटी पक्की! लेकिन ‘कमबख्त ईश्वर’ आया नहीं बचाने, क्यूंकि पहले से ही व्यस्त ईश्वर के पास इन ऊल-जलूल बातों के लिए वक़्त नहीं है, और मैंने कमबख्त इसलिए कहा क्यूंकि जिसके पास ‘वक़्त कम’ होता है वो कमबख्त ही होता है (मेरे स्कूली प्रधानाचार्य के शिक्षानुसार)। और आखिर ‘हिन्दू भगवान’ कोई स्पाइडर-मैन, बैट-मैन, या शक्तिमान तो हैं नहीं जो आप उनको पुकारें तो वो साक्षात् प्रकट हो जायें।

पौराणिक कथाएँ इस बात की गवाह रही हैं कि तपस्वियों ने कठोर श्रम कर के, सैकड़ों-हज़ार बरस तपस्या कर ईश्वर के दर्शन को पाया, कुछ परम-भक्तों को तो ईश्वर ने नर-नारायण रूप में ही दर्शन दे कर अन्तर्धान हो गये। क्या ईश्वर को खोजना अपने पड़ोसी की खैर-ख़बर लेने और अपने भाई का दर्द साँझा करने से ज्यादा आवश्यक है?

ज्ञेयः स नित्यसनन्यासी यो न देवष्टि न काङ्क्षति ।
निर्द्वन्दो हि महाबाहो सुखं बन्धात्प्रमुच्यते ।।3।। अध्याय पाँच, श्रीमदभगवद गीता

‘हे अर्जुन! जो पुरुष न किसी से द्वेष् करता है और न किसी की आकांक्षा करता है, वह कर्मयोगी सदा सन्यासी ही समझने के योग्य है; क्यूंकि राग-द्वेष् आदि द्वंदों से रहित पुरुष सुखपूर्वक संसारबंधन से मुक्त हो जाता है।’

स्वयं और अन्य पारिवारिक सदस्यों के प्राण हरना, ईश्वर प्राप्ति के लिए भी एक आकांक्षा ही है जिसे पुलिसिया जाँचदल और चिकित्सक भी एक मानसिक विकार की नज़र से देख रहे हैं।

वैसे गीता में कृष्ण कहते हैं कि उन्हें भक्त और अभक्त समान रूप से प्रिय हैं, फिर इतने व्रत-उपवास, आडंबर, मंदिर में माथा पटकना आखिर किस लिए?

समोSहं सर्वभूतेषु न मे द्वेष्योSस्ति न प्रियः ।
ये भजन्ति तु मां भक्त्या मयि ते तेषु चाप्यहम् ।।29।। अध्याय 9

‘मैं सब भूतों में समभाव से व्यापक हूँ, न कोई मेरा अप्रिय है और न प्रिय है; परन्तु जो भक्त मुझको भजते हैं, वे मुझमें हैं और मैं भी उनमें प्रत्यक्ष प्रकट हूँ।’

मेरी तुच्छ बुद्धि के अनुसार अगर आप अपने माता-पिता, गुरु, अतिथि को सम्मान दें, अपने बच्चों को उचित संस्कार दें तो ईश्वर दर्शन भले न दे, लेकिन वो मुस्कुरा जरुर सकता है और फिर इस कलियुग में मनुष्य की आयु ही इतनी छोटी हो गयी है कि सैकड़ों-हज़ारों साल ईश्वर की तपस्या करना असंभव है और अगर वो कुछ-एक साल के लिए हिमालय गया भी तो फिर वहीँ पर ईश्वर को भूल कर फेसबुक और ट्विटर अपडेट करेगा, या फिर अपने मोबाइल पर नेटवर्क खोजता फिरेगा।

पिताहमस्य जगतो माता धाता पितामहः
वेद्यं पवित्रमोङ्कार ऋक्साम यजुरेव च ।।17।। अध्याय 9

‘इस सम्पूर्ण जगत का धाता अर्थात धारण करने वाला एवं कर्मों के फल को देने वाला, पिता, माता, पितामह, जानने योग्य, पवित्र ओंकार तथा ऋग्वेद, सामवेद और यजुर्वेद भी मैं ही हूँ।’

© सुशील कुमार

Single Post Navigation

5 thoughts on “हे भगवान!

  1. This is the bloom which awaits every writing. Very good. Keep it up.

  2. bahut sahi kataksh kiya he aapne.. ek bat jo in sabhi ghatnaon se ujagar hoti he ki dharm.. ishwar .. moksh …. swarg .. narak.. ityadi ke bare mein ajtak jo manav ka itihas raha he uska mulyakan karne ki jaroort he. jesa ki insani swabhav he wo apne swarth purti ke liye kuch bhi kar sakta he.. to phir dharam ka bhi durupyog hua he.. us durupyog ne aam jan manas mein dharam ki jo samajh paida ke he wo aksar is tarah ki ghatnaon ke roop mein hamare samne atti hein.. mujhe yehi lagta he ki hamein dharm aur ishwar se jude sabhi sawalon par ek swatantar behas ki jaroort he taki ese gumrah logon ko jagrook banya jaye..aur jab bhe esi koshish ho us hetu kisi bhe dharm granth ko sandarbh na hi banya jaye to behtar hoga.. kuonki esa karte he hum apni budhi .. tark… sanvedna par parda dal dete he aur jo bhe dharam granthon mein likha he use sarvbhomik satya maan lete he.. uske khilaf ek bhe labz hum sun nahi sakte.. uske samman mein katal kar sakte he moka milte he apni havas bhe shant karte he..isliye yeh jaroori he ki sabhi dharmon ke gyata aur perokar sabse pehle to sarvotam ki hod band karein.. aur doosre ab tak jo unke dharmon mein jo thahrav aa gaya he jo ki jaanboojh kar apne phayde ke liye laya gaya he.. use manv hit hetu sabhi manav jati ki samajh aur samvedna ko somp kar usko gatisheel banane ki jaroort he..
    nothing is perfect..! we must strive for progressing further so that human civilization moves further in its journey of being civilized! and the best way to move forward is to keep your reason, intellect and sensitivity alive.. have faith in yourself since it is you who has marched this journey of civilization .. it is you who has lived the life of nomadic..it is you who created language.. it is you who created society… it is you who started worshiping nature out of fear.. it is you who has created god and religion .. then why are you running after god?

    • गहरी विवेचना के लिए धन्यवाद्। ग्रंथों का सहारा तो लेना ही पड़ता है, ये ‘जीवित साक्ष्य’ हैं जिनको नकारा नहीं जा सकता।

  3. vivek on said:

    shyad mein app tak sahi se apna sandesh pahooncha nahi paya ya phir app mujhe samjhne mein bhool kar rahe hein..mein is bat se inkar nahi karta ki dharam granth jeevit sakshya nahi he ya phir puri tarah sr vayarth hein .. lekin mein yeh nahi manta ki unhe nakara nahi ja sakta .. kuonki esi soch har dharm ke anuyayi rakhte hein aur ese mein phir wo sarvotam hone ki esi dorr mein bhag leta hein jiska koi ant nahi he.. yeh soch unhe kattarvad aur dharmic unmad ki taraf le jati he jo insaniyat aur uske vikas ke liye sahi nahi he..esi soch se wo apne dharam granthon ko alochna se vimukh kar ke use unchua bana dete hein jo ki dharm aur samaj ke vikas ko rokne jesa he.. app khud jante hein ki dharam granthon mein kai esi bate bhe hein jo manvta ke liy abhishap he jinmein manu samriti mein varneet jati vyabstha he..isi tarah dharam ke nam par sachai ka gala ghotne ke udharan bhe hein jese prasid vegyanik galilio ko sirf is bat ke liy suli par chada diya gaya ki yeh bat charch aur isayit ke khilaf the ki prithvi surya ke ird gird chakkar lagati he.. sadion pehle isi isayit ko janam dene bale ko bhe ajj ke din suli par yatna de gayi thee .. in dono ka apradh tha us samay ke dharamik vishwason ko chunoti dena. ajj app bhe jante he ki sabse teji se vegyanik pragti karne wala paschim kya galilio ke batye sach ka he istemal nahi kar raha he.. kya charch ajj apne naye pop ki ghoshna puri dunia mein bina us vegyanik jankari aur usse hue manav pryason ke bina kar sakta tha..? mera manna he ki app apni insani samajh ko najarandaz na karein , alochna sunne ke liy teyar rahein aur abshykta anusar badlav ke liy bhee.. nahi to hum aur hamara dharam gadhe mein tehre hue us pani ke saman ho jata he jisse badboo ati aur jo gande keede makode ki panah gah ban jata he.. aur ese keede makode insan ko tarah tarah ki bimariyan dete he..!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

THE LEON KWASI CHRONICLES

⭐EDUCATE⭐MOTIVATE ⭐END THE HATE⭐LIBERATE ⭐FOR A BETTER FATE⭐

aurakarma

Stories from the Streets

wrongwithlife

The immeasurable terrors of her mind...

50 Shades of me

DARK BLUE

INNER THOUGHTS

INNER THOUGHTS

Journey of MsT

"His breath took me in..."

DoubleU = W

WITHIN ARE PIECES OF ME

Indie Hero

Brian Marggraf, Author of Dream Brother: A Novel, Independent publishing advocate, New York City dweller

Juliacastorp's Blog

Studii de dans macabru

Chris Wormald - A Photographer's travel blog.

All images and text copyright Chris Wormald 2010

Chasing Pavements Around the World

"respond to every call that excites your spirit"

TIME

Current & Breaking News | National & World Updates

The CEMS Blog

The official blog of Chennai Event Management Services

Ithihas

Kaleidoscope of Indian civilization

The Indian Express

Latest News, Breaking News Live, Current Headlines, India News Online

%d bloggers like this: