Sushil Kumar's Blog

straight from my heart and soul

जमदाग्नि की अग्नि

Image

उस औरत का कुछ भी नाम हो सकता है
जैसे रेणुका, सीता या फिर बबिता
और उसका मरदूद आदमी?
उसका भी तो कुछ नाम हो सकता है
जैसे जमदाग्नि, राम या फिर कुछ और…
जिस पतनगामी औरत के पति ने उसे ज़िंदा जलाया
वो कौन था?
जमदाग्नि, राम या फिर कोई और?
उस औरत को किसने मारा?
धर्म ने या अधर्म ने?
या फिर किसी जमदाग्नि, राम या
किसी और पुरुष की ईर्ष्या ने
या फिर कोई और…

© सुशील कुमार

माफ़ी?

भाजपा ने माफ़ी माँगी!
तो क्या फिर कल से बाबरी मस्जिद का पुनर्निर्माण शुरू होगा?
या फिर एक धक्का और दो…
अभी तो मथुरा, काशी भी बाकी है…
क्या मियाँ लोग कल से फिर से आगे से खाने लगेंगे?
और जो गुजरात में न्यूटन को कलंकित किया उसका क्या?
क्या सचमुच राजूनाथ बन गया जेंटलमैन?

© सुशील कुमार

चिदंबरम के नटराज मंदिर में एक मुस्लिम महिला अपने बच्चे के साथ

चिदंबरम के नटराज मंदिर में एक मुस्लिम महिला अपने बच्चे के साथ

Evolution of Vampires

Bhopal Union Carbide memorial, Image source: Wikipedia

Bhopal Union Carbide memorial, Image source: Wikipedia

When there was era of sword,
the cities were plundered,
temples looted,
men were treated as slaves,
women were raped
or made to live as concubines.
When gun powder was discovered,
swords were reduced to blade of grass,
colonies were established,
and sun never set on British Empire.
When Dynamite was discovered
mountains were razed to dust.
When satellites began
roaming in earth’s orbit,
villages and forests
were reduced to mines.
When nuclear bomb was dropped,
the humanity was choked by radiations.
When Auschwitz happened,
humanity was ashamed of being inhuman.
When Bhopal Gas tragedy struck in midnight,
thousands of poor Indians died a silent death,
dreaming the life of comfort and happiness,
when their souls awoke from grave,
they found politicians, Babus, Judges
laughing incessantly.
Few vampires,
were praying secretly for
Tsunamis,
earthquakes,
deluges,
industrial disasters
and wars,
to quench their
thirst for wealth.

© Sushil Kumar

एक पुरानी कहानी

“चु. चि.”
नाम सुना है आपने कभी इसका??
आज आपको ‘चु. चि.’ की कहानी सुनाएंगे…
बहुत समय पहले की बात है जब सन्डे को देश में दिन में कर्फ्यू लगता था… जब रामायण टीवी पर आता था।
जब होली-दिवाली-ईद-बकरीद की तरह से चुनाव का त्यौहार भी आता था। लोक-सभा, राज्य-सभा, विधान-सभा, विधान-परिषद्, नगर-निकाय…. ये सब मैं नहीं जनता था… शायद जो वोट देते थे वे भी नहीं जानते थे। तब मैं बच्चा था और हर वोट डालने वाला भी बच्चा ही था… शेषन के आने से पहले हर मतदाता आखिर बच्चा ही तो था… जिसे चुनाव के पहले झुनझुना थमाया जाता था।
तो मैं बता रहा था चु. चि. की कहानी। कहानी का काल तय करें तो १९८६-१९८७ के आस-पास… तब साल भर दीवारें चु. चि. से लबरेज़ रहती थीं… क्यूँकि चुनाव तो आते-जाते रहते थे टाईप-टाईप के। अब आप ज्यादा सकपकाए नहीं… चु. चि. का मतलब बता दे रहे हैं, शब्द- संक्षेप है चुनाव चिन्ह का बोले तो ‘चु. चि.’…
अब मैं यू. पी. में ज्यादा आना-जाना नहीं रखता लेकिन इतना तो तय है कि दीवारें अब उतनी बदरंग नहीं होती होंगी जितनी पहले होती थीं। इलाहाबाद में अगर विश्वविद्यालय के छात्र-संघ का भी चुनाव हो तो पूरा शहर नारों से पट जाता था।
ख़ैर आप भी क्या फजूल की बातों से बोर हो रहे हो…
मज़े की बात सुनिये… जब मैं छोटा बच्चा था, उम्र आठ-नौ साल तब मैंने भी चुनाव प्रचार किया है, स्कूल से लौट कर हम नारे लगाते थे – महदूद किबरिया ज़िंदाबाद… मुझे लगता था कि ज़िंदाबाद भी शायद इलाहाबाद, ख़ुल्दाबाद, दरियाबाद जैसे किसी इलाके का नाम होगा, ‘चु. चि.’ थी छतरी और पुल्लिंग बोले तो छाता ।
कार में बैठ कर शहर में नारे लगाना तब उच्च स्टेटस सिम्बल माना जाता था… कार जो नहीं थी दूर-दूर तक किसी के पास… कारों का काफिला निकलता और महदूद किबरिया जिंदाबाद, जो हमसे टकराएगा चूर-चूर हो जायेगा!!!
हम स्वयं इतने कोमल थे तो कोई हमसे टकराकर चकनाचूर कैसे हो सकता है ये बात समझ से परे थी।
मतदान का दिन आया और फिर चुनावी नतीजे का, हमारी बाल-वृन्द टोली की मेहनत पर पानी फिर गया था… महदूद किबरिया कई महीने गायब रहे, बोले तो लापता…. चुनाव हार गए थे नगर निगम का, जमानत ज़ब्त हो गई थी… सात भोट/वोट मिले थे… परिवार वालों ने भी वोट नहीं दिया था… जब नारे लगाने वालों को पूड़ी-सब्जी-लड्डू नहीं खिलाये थे तो ऐसे लीचड़ नेता को कोई क्यूँ भोट देता?
कभी वो सख्स मिला तो मैं भी अपना मेहनताना माँगूंगा, दस दिन जो गला फाड़-फाड़ कर सत्यानाश कराया था अपना।
याद तो रहेगा न चु. चि. – छतरी!
© सुशील कुमार

छवि साभार: India Today

छवि साभार: India Today

Dashavataram – zip zap zoom!

Handiworks of Indian artists are world famous, just look how an artist is giving final shape to Lord Vishnu’s Dashavatarm (10 incarnations) on wood and applying number of paints. The place is Pragati Maidan’s World Trade Fair, New Delhi.
DSCN0022DSCN0023

God made man and man made God!

God made man and man made God!


And now the most famous Dashavataram of Vishnu
completed wooden statue of Krishna

completed wooden statue of Krishna

Terrorist

Supreme Court of India

Supreme Court of India

Terrorist are not those
who hide their face
from the crowd
to blow up market
temple, mosque, church.

Terrorist are not those
who sabotage railway tracks
who kills children in school
with lethal gas.

Terrorist are not those
who kill innocents
in the name of
Jehad
Crusade
Dharm-Yuddha.

Terrorist are not those
who have affiliations to
Saffron and Green identities.

Terrorist are those
who touch inappropriately
a young gal
in school,
in college lab,
in school cab.

Terrorist are those
who demean
young women
as in casting couch.

Terrorist are those
Supreme Court judges
who hide their face
from the crowd
to blow up Justice,
who trample young interns
to extinguish
their fire of groin.

Terrorist are not Green
Terrorist are not Saffron
they come in the package
of decency.

And a true terrorist
demands more and more respect
for being a wicked soul.

My Lordship!
You are one of those terrorists.
Be a man,
and don’t hide your face from the crowd.

© Sushil Kumar

A for Appel!

EXIT?

EXIT?

Shoes?

Shoes?

MOBILE?

MOBILE?

TABLET?

TABLET?

नारियल पानी means coconut water but नारीयल पानी means 'feminine water’... sounds weird!

नारियल पानी means coconut water but नारीयल पानी means ‘feminine water’… sounds weird!

Band, Baaja & Baaraat

November is the most likeable season in India for weddings; no doubt doctors say that most babies are born in the month of September. Please don’t do the calculations here instead enjoy the pics of Band-Baaja in Delhi Metro.

Band party member with vibrant uniform

Band party member with vibrant uniform

Band party traveling in Delhi Metro

Band party traveling in Delhi Metro

sandwiched between a band party inside Delhi Metro

Sandwiched between a band party inside Delhi Metro

Monkey business

bananas are the source of my energy

banana is the source of my energy

This post is not intended to hurt the sentiments of pious Hindus who revere monkeys and more to say a monkey-God too. So we all know that monkeys and bear were warriors in the army of Ram in Treta Yuga, and after the conquest of Ravana, the monkeys were unemployed (not in the sense of today’s scenario) and were promised by Ram to have a permanent abode in Vrindavan in Dwapar Yuga… don’t ask me to give proof… and this piece is just a little attempt to remind that we are not alone in this planet. The two Yugas have finished now and because of blessings of Lord Rama, these monkeys are present everywhere in Vrindavan; in Ghats, temples, markets, residential areas, and they have learned to live with Home sapiens sapiens as the great Darwin hinted some ancestral linkage to these two primates.
one giant step to evolution

one giant step to evolution

monkey trial?

monkey trial?

They are fed with large dose of bananas specially on Tuesday and Saturday and if you don’t entertain them with bananas then they will jokingly steal your belongings, your spectacle, mobile, camera, pen, hand bag and to irritate you more they try to bite few chews on these inedible things just to show that they are monkeys and not humans to eat only edible things.
life is like a banana when you peel it only then you can enjoy it

life is like a banana when you peel it only then you can enjoy it


Meet my friend Gautam who was tapped gently on his shoulder by a monkey and when he moved back to greet the gentleman, he saw not a man at all but a shrewd monkey who snatched his spectacle over his nose (you must have heard of the saying under his nose).
my friend Gautam

my friend Gautam

Gautam with broken glasses

Gautam with broken glasses

But the monkey was not in good mood, he giggled and dug his teeth in the lens and tried to chew it like bubble-gum and spat the lens when the taste was not amusing. On the advice of one merchant, my friend bartered to monkey with a new packet of biscuit, and lo… the cajoled monkey happily returned him one and a half lens and minus one rim. The story not ends here, the monkey was puzzled by the aftertaste of lens and biscuits and he was very much annoyed by the uselessness of spectacles for his clan, and in a fit of rage he slapped one pilgrim on his left cheek and ran away hurriedly so as not to be seen again for that day.
me and Gautam

me and Gautam

And to end this post I want to quote a monkey… sorry a man of genius – the surest way to make a monkey of a man is to quote him (as said by Robert Benchley).
© Sushil Kumar

Monkey gallery

beware of monkeys: take care of your bag, spectacle, bag, camera, etc.

beware of monkeys: take care of your bag, spectacle, bag, camera, etc.

remove your glasses or monkeys will remove it

remove your glasses or monkey will remove it

two years back Swami ji was robbed of his spectacle after one hour of this click

two years back Swami ji was robbed of his spectacle after one hour of this click

Yoga Guru monkeys

Yoga Guru monkeys

trees are social media for monkey where they scratch each other

trees are social media for monkeys where they scratch each other

दादागिरी

एक रहिन दादा जी। उन्हें हर जवां कन्या में अपनी पोती नज़र आती तो उनका हृदय उसे गोदी में लेकर खिलाने को मचल उठता। वे अन्य दादाओं की दादागिरी को नापते, भाँपते और प्रेम-पूर्वक मानवकल्याण हित की बात कह गोलमोल टाल जाते৷ ऐसे ही हर तरफ़ दादाओं का हुज़ूम था৷ ये दादा साहित्य जगत में होते तो इस वात्सल्य भाव को हंसी ठिठोली में ‘ठरक’ कहते और जीवन भर के कल्याणकारी कर्मों पर कालिख पोत कर काल कवलित हो जाते৷ एक दादा जी अपनी पोती के सर से बुरी आत्मा खदेड़ने का यज्ञ करते और पोती कहती बस करो दादा जी, बस करो दादा जी… बहुत हुआ, फिर भी दादा जी का मन न भरता। एक दादा जी को सिर्फ एक पोती नहीं बल्कि कई पोतियों से प्रेम था৷ वे अपने रसूख से नई-नई पोतियाँ बनाते और उनके साथ छिपन-छिपाई खेलते और उनका जैविक पुत्र कोर्ट कचहरी में पूजनीय दादा जी के ब्लड सैम्पल के लिए भटकता रहता৷ बाद में यह देखा और पाया गया कि उन्होंने टीवी माध्यम से अवाम तक यह सन्देशा पहुँचाया कि वे आज़ादी की लड़ाई के सिपाही रहे हैं और देश हित और जन-कल्याण के लिए कुछ भी कर सकने के लिए सदैव तत्पर हैं৷ एक दादा जी अपने नौकर के साथ रहते और घर की साफ़ सफाई के लिए पोतियों को नौकरी पर रखते फिर वे पोतियाँ गायब होने लगतीं और हद तो तब हुई जब उन्हें पोतों में भी पोतियाँ नज़र आतीं और वे पोते-पोतियों को बड़े करीने से काँट-छाँट कर पन्नी की थैलियों में भर कर नालों में ड़ाल देते। वैज्ञानिक बताते कि पन्नियाँ छह सौ बरस तक नहीं सड़तीं और पर्यावरण के लिए गम्भीर ख़तरा हैं৷ मानव देह और हड्डियाँ कब तक न सड़तीं इस बारे में शोध करना वैज्ञानिकों को रूचिकर न लगता৷
ग़रीब घर के पोते-पोतियों को जीवन-मरण के चक्र से छुटकारा दिलाने वाले दादा जी को जब पुलिस बड़े पंचायत लाती तो पंचों की यह राय बनती कि दादा जी तो उस वक़्त भारत में नहीं थे, ज़रूर यह सब दुष्कृत्य दादा जी के नौकर ने किया है৷ साफ़ सुथरी छवि के दादा जी के नौकर को फाँसी पर चढ़ाने का फ़रमान सुनाया जाता। दादाओं दादाओं में ख़ूब बनती, वे आपस में ख़ूब कहकहे लगाते, उनके पोपले मुँह उनकी मासूमियत पर मुहर लगाते৷
दादाओं की एकता से नौजवान भी शीघ्र दादा बनने की तमन्ना पालते৷ सभी दादा जी एक सुर में कहते बच्चे किसे नहीं अच्छे लगते? और वे फिर नई पोतियाँ तलाशते अपना असीमित प्रेम उड़ेलने के लिए। और इसके बाद दोस्तों शिवपालगंज में सभी दादा हँसी ख़ुशी दिन बिताने लगे৷
© सुशील कुमार

छवि साभार: mei-lovedrawing.deviantart.com

छवि साभार: mei-lovedrawing.deviantart.com

Post Navigation

TIME

Breaking News, Analysis, Politics, Blogs, News Photos, Video, Tech Reviews

The CEMS Blog

The official blog of Chennai Event Management Services

Ithihas

Kaleidoscope of Indian civilization

The Indian Express

Latest News, Breaking News Live, Current Headlines, India News Online

mehtatheria

meta - theria: taming the Indian emerging giant

LightBox

From the photo editors of TIME

Indian Poetry

A selection of Indian poetry

The Shooting Star

Just a girl who travels.

Person of the Year

TIME picks the person who most influenced the news each year, for better or worse

buffalotompeabody's Blog

The 9 lives of Buffalo Tom Peabody.

LIFE

Classic Pictures From LIFE Magazine's Archives

ROXI ST. CLAIR

Because writing is cheaper than therapy. ™

This correspondence

Stories, notes from reportage and travels

United We Blog! for a Democratic Nepal

We blog for peace and democracy in Nepal

Kitaab

Asia+n writing in English

U.S.

News, Headlines, Stories, Video from Around the Nation

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 91 other followers